सोमवार, 11 जून 2012

काव्य-संध्या के आकर्षक पल


पिछले कुछ महीनो से लगातार यात्राओं के कारण शुक्रवार चौपाल बंद सी है। लेकिन जो थोड़ा बहुत समय मिला है उसमें इमारात के भारतीय विद्यालयों के हिंदी अध्यापकों में छुपी रचना प्रतिभा को निकालकर बाहर लाने का अभूतपूर्व काम हो सका है। इस गुरुवार की शाम इन प्रतिभाओं को समर्पित एक काव्य संध्या का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री विश्वंभरनाथ पांडेय राहगीर बनारसी थे। वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी और हिंदी तथा भोजपुरी साहित्य में लोक कवि के रूप में महत्त्वपूर्ण स्थान रखने वाले, अनेक सम्मानों से सुशोभित श्री राहगीर बनारसी जी पिछले कुछ दिनो से इमारात में अपनी बेटी के पास रह रहे हैं। अनेक बार विश्व का भ्रमण कर चुके इस अद्भुत रचनाकार ने अपने रोचक अनुभव सुनाकर उपस्थित श्रोताओं का मन मोह लिया।

कार्यक्रम का आरंभ डैरिक रोस्टन ने अपनी मधुर आवाज में  सरस्वती वंदना से किया, सबने एक दूसरे का परिचय प्राप्त किया। दो प्रमुख वक्ताओं कुलभूषण व्यास ने प्रेरक कविताओं के संग्रह की योजना और अभिमन्यु गिरि ने सितंबर माह में होने वाली हिंदी प्रसार सभा की परियोजनाओं की सूचना दी जो  उपस्थित हिंदी प्रेमियों के लिये अत्यंत हर्ष की बात थी। पिछले अनेक सालों से ये दोनो हिंदी प्रेमी, हमारी राजभाषा  के विकास में महत्वपूर्ण योग दान दे रहे हैं। पूर्णिमा वर्मन ने संचालक के पद से बोलते हुए कहा कि अब संयुक्त अरब इमारात के हिंदी कवियों का एक संकलन निकलने का समय आ पहुँचा है और आने वाले सितंबर तक इसे तैयार हो जाना चाहिये। 

कविता पाठ का आरंभ श्री नंदी मेहता ने किया इसके बाद अभिमन्यु गिरि,  कुलभूषण व्यास, राजन सब्बरवाल, धर्मेन्द्र चौहान, डैरिक रोस्टन, मनोज शर्मा, राहुल तनेजा, श्रीमती अमृता कौर, मीरा ठाकुर,  श्री एन. एच. भोजने, पूर्णिमा वर्मन तथा अंत में राहगीर बनारसी सभी ने अपनी-अपनी रचनाओं का पाठ  किया।  कार्यक्रम मेँ श्रीमती स्वरूप राय, श्रीमती कामना कटोच, श्रीमती मंजु सिंह, श्रीमती शालू चिंपा, श्रीमती ऋचा गौतम, श्रीमती मीना, श्री प्रवीण सक्सेना तथा अनुभव व इला गौतम सहित इमारात के भारतीय विद्यालयों के लगभग ४० हिंदी अध्यापक एवं उनके परिवार उपस्थित थे। यह गोष्ठी रात ११ बजे तक सानंद चलती रही। काव्य संध्या के अंत में मीरा ठाकुर द्वारा आयोजित जलपान ने सबको तृप्त किया।  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें