रविवार, 2 अगस्त 2009

३१ जुलाई, छुट्टी का दिन


जुलाई-अगस्त के महीने इमारात में गर्मी की छुट्टियों के होते हैं। अधिकतर अभिभावक और शिक्षक इन दिनों छुट्टियाँ मनाने अपने-अपने देश चले जाते हैं। मैं भी अपनी छुट्टियाँ मनाकर आज वापस लौटी हूँ। इस बीच चौपाल के दो दिन निकले। चौपाल की सूचना सदस्यों को ईमेल द्वारा भेजी जाती है। १७ जुलाई की सूचना में बिमान दा की विदाई की बात थी।

बिमान दा शारजाह छोड़कर भारत में बसने की तैयारी में हैं सदस्य चिंता में हैं कि उनकी विदाई समारोह का आयोजन किस प्रकार यादगार बनाया जाए। २४ जुलाई की चौपाल स्थगित हो गई थी। ३१ जुलाई को कोई ईमेल नहीं आई। लगता है प्रकाश और सबीहा सब छुट्टी मनाने चले गए और ईमेल भेजनेवाला भी कोई नहीं बचा। इसलिए चौपाल के इस चिट्ठे पर भी तब तक छुट्टी रहेगी जब तक सब लोग छुट्टियाँ मनाकर वापस लौट नहीं आते।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें