रविवार, 12 जून 2011

१० जून, फिल्मी गाने और कामदी


चौपाल में इस सप्ताह संगीत और नाटक पर आधारित एक कार्यक्रम का नाट्य आलेख पढ़ा गया। यह कार्यक्रम सृष्टि संगीत संस्था द्वारा किया जा रहा है। प्रस्तुति के नाट्य अंश प्रस्तुत कर रहे हैं-थियेटरवाला। हास्य व्यंग्य से भरपूर, रूमानी फिल्मी गानों वाली यह एक रोचक प्रस्तुति है। इस सप्ताह चौपाल में राजन सब्बरवाल की उपस्थिति विशेष महत्त्व वाली रही। अन्य सदस्यों में से डॉ. शैलेष उपाध्याय, सबीहा मझगाँवकर, सुमित गुप्ता, शुभजित, प्रकाश सोनी, सादिया नूरी और प्रवीण सक्सेना उपस्थित रहे। अफसोस कि उस दिन जो तस्वीरें ली गई थीं वे कैमरा खाली करते हुए गलती से मिट गईं। इसलिये इस बार केवल थियेटरवाला के लोगो से काम चलाना पड़ेगा। आशा है अगली बार से गलतियाँ नहीं होंगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें